BREAKING NEWS: हबीबे मिल्लत मौलाना सैय्यद हबीब हैदर पहूंचे सैद नगली। किया मरहूम डा मौहम्मद रज़ा की अहलिया की मजलिसे बरसी को खिताब।






    MAY 28, 2024 TUESDAY         
    National Hussaini 72 News  

Habib e Millat Maulana Syed Habeeb Haider reached Said Nagli to address Majlis e Barsi of Late Dr Mohd Raza Wife Late Shamim Zehra.

  सैद नगली, अमरोहा:     मंगलवार को नगर पंचायत सैद नगली के मौहल्ला सादात के दादे वाले इमामबाड़े मे मरहूम डा मौहम्मद रज़ा की पत्नी मरहूमा इफ्तेखार फातिमा उर्फ शमीम जै़हरा की बरसी की मजलिस मुनक्किद की गयी।  मजलिस में मर्सियाख्वानी जनाब डा लईक़ हैदर व हमनवा ने की। मजलिस को खिताब हबीबे मिल्लत मौलाना सैय्यद हबीब हैदर आबिदी साहब ने किया।

मौलाना ने मजलिस को खिताब करते हुए कहा कि क़ुरान ए पाक में अल्लाह का इरशाद है कि ऐ मुसलमानों अगर तुम कामयाब होना चाहते हो तो उसकी चार शर्तें हैं। पहली शर्त ये है कि तुम मेरे नबी पर ईमान ले आओ। दूसरी शर्त है कि नबी पर सिर्फ इमान लाना ही काफी नहीं है बल्कि इमान के साथ साथ नबी की इज्ज़त भी लाज़िम है। तीसरी शर्त है कि ईमान व इज्ज़त के साथ नबी की नुसरत भी करो।चौथी शर्त है कि नबी के साथ जो नूर उसकी इब्तेबा करो। ये ही चारों शर्तें हैं जिससे तुम कामयाबी हासिल कर सकते हो। मौलाना ने मजलिस में आगे क़ुरान में दिए नबीयो के मोजिजो व ताकतो के बारे में बताया। उन्होंने बताया कि हज़रत ईसा परवरदिगार की इजाज़त से मिटटी के परिन्दो में जान फूंक दिया करते थे। वो पैदाइशी अंधों को रोशनी , लाइलाज बीमारियों का इलाज व गैब का इल्म रखते थे। मौलाना ने फ़रमाया की हमारे नबी हजरत मोहम्मद मुस्तफा सब नबियों के सरदार थे तो आप उनके कमालात और मोजिजो का अंदाज़ा लगा लीजिए।

 मौलाना ने मजलिस के आखिर मे करबला में इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम और उनके साथियों की शहादत को याद किया। उन्होंने बताया की करबला के मैदान में यजीद ने रसूल के पूरे घराने को कत्ल कर दिया। जालिमों ने छ: माह के नन्हे बच्चे अली असगर को भी नहीं बख्शा और उसको भी कत्ल कर दिया । मौलाना ने इरशाद फ़रमाया कि किस तरह बादे करबला रसूल के घराने की औरतों को नंगे सर घुमाया गया और उनको बेपनाह आज़ियते दी गई। करबला का जिक्र सुनकर अजादार जार जार रोने लगे। मजलिस में  एडवोकेट इमरान मुर्तजा, डा समर रज़ा, सदफ रज़ा, आरिफ हुसैन, जर्रार मेहंदी, फिरोज़ हैदर, मास्टर अरशद रज़ा,  डा मोहम्मद जाफर, मोहम्मद इमरान, मुज़म्मिल हुसैन, हैदर, डा केसर बाकरी, मौलाना क़म्बर अली,जैगम अब्बास, अली रज़ा नौगांवी,  मौहम्मद स्वालेह, अरमान, रिजवान हैदर, नसीमुल हसन, मौहम्मद साक़िब, अनम अब्बास, हसन अब्बास आदि लोगों ने शिरकत की।

एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने